Image

चंद्र प्रकाश मिश्रा विख्यात स्वंत्रता सेनानी

स्वतंत्रता के आंदोलन में , एक 16 साल का युवा अंग्रेजो के विरूद्ध होकर , चाकुलिया में उसके कॉलोनी के बल्ब तक ये सोच के तोड़ देता है , की इस देश की जनता को अंधेरे में रख कर ,खुद अँग्रेज़ उजाले में रह रहे थे, राष्ट के संसाधनो को  अँग्रेज़ लूटे रहे थे ,

इस दौरान एक बात 16 साल के लड़के की दिमाग मे खटकती है ओर अकेले ही चल पड़ते है वो लड़का, रात के अंधेरे में अंग्रेजो के बल्ब तोड़ने ,

कई दिनों तक बल्ब तोड़ने के बाद , जब अंग्रेज अंधरे में रहने को मजबुर करने वाला युवा पकड़ा जाता है ,

तब पता चलता है , नाम

चन्द्र प्रकाश मिश्रा उर्फ चंदू नाना

जेल से आने के बाद भी उसी उत्साह और जोश से स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय हो कर , नेताजी सुभाष चंद्र बोस , नेहरू और गांधी से मिलते हुए ,

लगातार हार नहीं माना ,,

सारा जीवन राष्ट हित समाज हित में लगे रहे

पिछले वर्ष चंदू नाना ने स्वतंत्रता दिवस पर बहरागोड़ा प्रखंड मे झंडा को अंतिम सलामी दी थी.इसके बाद चंदू नाना का निधन दिनांक 25.05.2019 को होगया.