Image

जुस्को की बिजली के लिए जल्द होगा एमओयू

जमशेदपुर के गैर कंपनी इलाकों, 86 (अब 112) बस्तियों को जमशेदपुर यूटिलिटिज एंड सर्विसेज कंपनी लिमिटेड (जुस्को) की बिजली जल्द मिलने के आसार दिख रहे हैं. जुस्को की पावर डिस्ट्रीब्यूशन की टीम ने पूरी बस्तियों का सर्वे कर रिपोर्ट झारखंड विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) को रिपोर्ट भेज दी है. अब इस पर झारखंड सरकार को तय करना है कि कब मेमोरेंडम ऑफ अंडर स्टेंडिंग (एमओयू) होगा.

झारखंड सरकार के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस वर्ष की शुरूआत में 86 बस्तियों को जुस्को का बिजली देने की घोषणा की थी. इस घोषणा के बाद जुस्को की टीम ने सभी बस्तियों का दौरा कर लगभग पांच माह में सर्वे का काम पूरा कर लिया है. इस सर्वे पर ही जुस्को के अधिकारियों ने निगम को विस्तृत रिपोर्ट भेजी है. इसमें बताया गया है कि झारखंड विद्युत वितरण निगम लिमिटेड की वर्तमान सुविधा में किस तरह से बदलाव करना है. कहां अंडर ग्राउंड बिजली देनी है. कहां सब स्टेशन को व्यवस्थित करना है. कहां ट्रांसफार्मर को खुले आसमान से हटाकर दूसरे स्थान पर शिफ्ट करना है. इसके लिए कितने मैनपावर और कितने संसाधनों की जरूरत होगी। कहां पर सब स्टेशन बनाने के लिए अतिरिक्त जगह की आवश्यकता होगी. जुस्को के एक वरीय अधिकारी ने बताया कि उन्होंने सर्वे का काम पूरा कर जेवीबीएनएल को अपनी रिपोर्ट भेज दी है. हमारे तरफ से काम पूरा हो चुका है एमओयू होते ही वे 86 बस्तियों में बिजली देने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर करने का काम शुरू कर देंगे.

एमओयू के बाद जुस्को को मिलेगा पैसा

86 बस्तियों में बिजली देने से पहले झारखंड सरकार के झारखंड विद्युत वितरण निगम लिमिटेड और जुस्को के बीच एक एमओयू होगा. इसमें तय होगा कि जुस्को, जेबीवीएनएल के किन-किन संसाधनों का उपयोग करेगी? बिजली विभाग के सरकारी कर्मचारियों का उपयोग करेगी या नहीं? जो नए इंफ्रास्ट्रक्चर, तार, पावर सब स्टेशन व स्टेशन बनाए जाएंगे उसके लिए पैसे कितने मिलेंगे? साथ ही जुस्को कितने वर्षों तक 86 बस्तियों को सेवा देगी? इन सभी का विवरण एमओयू में होगा.

एक शहर में न हो दो व्यवस्था : सीएम

रघुवर दास ने अपने संबोधन में कहा था कि एक शहर में दो तरह की व्यवस्था नहीं होनी चाहिए. जुस्को क्षेत्र में निर्बाध बिजली जबकि गैर कंपनी इलाकों में इसे लेकर परेशानी है। ऐसे में वे चाहते हैं कि गैर कंपनी इलाकों में भी जुस्को ही बिजली दे.