Image

ममता ने विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने पर ट्विटर की प्रोफ़ाइल फोटो की जगह विद्यासागर की फोटो लगा ली

कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान बवाल के बाद विवाद धमने का नाम नही ले रहा है. शाह के रोड शो में हिंसा के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी पर समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने का आरोप लगाया है. साथ ही इस मामले के तूल पकड़ते ही सीएम ममता ने अपने ट्विटर की डीपी में अब विद्यासागर की फोटो लगा ली है. ममता के साथ ही टीएमसी के कई नेताओ और कार्यकर्ताओ ने भी सोशल मीडिया पर अपनी प्रोफ़ाइल फोटो की जगह विद्यासागर की फोटो लगा ली है.

मूर्ति तोड़े जाने के खिलाफ आज ममता की शांति रैली

ममता बनर्जी ने विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने के खिलाफ बृहस्पतिवार को एक विरोध रैली की घोषणा भी की है. बवाल के बाद कल ममता बनर्जी ने कहा था, ‘’बीजेपी के लोग इतने असभ्य हैं कि उन्होंने विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ दी. वे सभी बाहरी लोग हैं. बीजेपी मतदान वाले दिन के लिए उन्हें लाई है.’’ इस दौरान ममता ने अमित शाह को ‘गुंडा’ बताया. अब इस विवाद के बाद विद्यासागर की प्रतिमा गिराने के मुद्दे पर टीएमसी ने चुनाव आयोग से मुलाकात का समय मांगा है.

 इधर विद्यासागर कॉलेज के प्रधानाचार्य ने भाजपा समर्थकों पर लगाए कई गंभीर आरोप

विद्यासागर कॉलेज के प्रधानाचार्य गौतम कुंडु ने बीजेपी समर्थकों पर कई गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा, ‘’बीजेपी समर्थक पार्टी का झंडा लिए हमारे दफ्तर के अंदर घुस आए और हमारे साथ बदसलूकी करने लगे. उन्होंने कागज फाड़ दिया, कार्यालय और संघ के कक्षों में तोड़फोड़ की और जाते वक्त विद्यासागर की आदम कद प्रतिमा तोड़ दी. उन्होंने दरवाजे बंद कर दिये और मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया.”

जानिए ईश्वर चंद्र विद्यासागर के बारे मे

ईश्वर चंद्र विद्यासागर बंगाल के मशहूर बांग्ला लेखक और समाज सुधारक थे. इनका जन्म बंगाली ब्राह्मण परिवार में 26 सितम्बर 1820 को और निधन 29 जुलाई 1891 को हुआ था. इनके बचपन का नाम ईश्वर चन्द्र बन्दोपाध्याय था, लेकिन उनकी विद्वता के कारण ही उन्हें विद्यसागर की उपाधि दी गई थी. विद्यसागर नारी शिक्षा के समर्थक थे. उनकी कोशिशों से ही कलकत्ता और अन्य जगहों में बहुत ज्यादा बालिका विद्यालयों की स्थापना हुई थी.

बता दे कि इन्हीं की कोशिशों का परिणाम था जो 1856 ई. में विधवा-पुनर्विवाह कानून पारित हुआ. उन्होंने अपने इकलौते बेटे की शादी एक विधवा से की थी. उस दौर में उन्होंने बाल विवाह का भी विरोध किया था.

जानिए क्या है पूरा मामला?

दरअसल कल कोलकाता में अमित शाह का रोड शो आयोजित हुआ था. इस दौरान कोलकाता के विद्यासागर कॉलेज के अंदर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर कथित तौर पर पथराव किया जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई. गुस्साए बीजेपी समर्थकों ने कॉलेज के गेट के बाहर टीएमसी कार्यकर्ताओ के साथ मारपीट की. उन्होंने बाहर खड़ी कई मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया गया. इस हिंसा के दौरान ही ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा भी तोड़ दी गई.

अब आगे क्या ?

इस मामले को लेकर बीजेपी और टीएमसी दोनों एक दूसरे पर हिंसा फैलाने का आरोप लगा रही है. दोनों ही पार्टी इस मामले को लेकर चुनाव का दरवाजा खटखटाने के लिए तैयार है. अब देखना है चुनाव आयोग इस मामले मे क्या एक्शन लेता है?