Image

राष्ट्रीय स्तर का चित्रकला प्रदर्शनी में शहर के अनुपम पाल सहित तीन कलाकारों की पेंटिंग का चयन

दार्जिलिंग स्थित रामकिंकर आर्ट गैलरी में 17 से 21 जून तक चलने वाले पांच दिवसीय 19 वे आल इंडिया आर्ट एंड क्राफ्ट प्रदर्सनी में शहर के तीन कलाकार अनुपम पाल , अंजलि सिंह , और माणिक शॉ ने पेंटिंग्स के जरिए अपना कला के जादू प्रदर्शन किया.  इस चित्रकला प्रदर्सनी में देशभर से ५० से अधिक पेंटिंग्स प्रदर्शित किए गए जिनमे पुरे झारखण्ड से इन तीनो कलाकारो चयन हुआ था.  इस प्रदर्सनी में हिस्सा लेने के लिए तीनो ने ३ महीना पहले ऑनलाइन आवेदन किया था. इसके लिए उन्होने अपनी सर्वश्रेस्ट पेंटिंग्स भेजी थे. तीनो कलाकारों की 3 – 3 पेंटिंग का चयन प्रदर्शनी  के लिए हुआ.

आइये एक परिचय करवाते है इन कलाकारो का :

माणिक शॉ : माणिक शॉ पिछले १५ सालो से कला के क्षेत्र में है शहर के अलावा पश्चिम बंगाल ,झारखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों में टेराकोटा , कंटेम्प्ररी और माइक्रो आर्ट के लिए जाने जाते है. चौक और पेंसिल की नोक में कलाकारी करने का इनके पास अद्भुत कला है.

अंजलि सिंह : अंजलि सिंह डूडल आर्टिस्ट है वह पिछले चार साल से डूडल आर्ट को बढ़ावा दे रही है. अंजलि पेण्ट ब्रश की जगह पेन पेंसिल स्याही और ड्राई पेस्टल के प्रयोग से कलाकृति बनती है. इसे कला प्रेमी काफी पसंद करते है. कारन कोलकाता के बिरला आर्ट अकादमी में अप्रैल में बेस्ट डूडल आर्टिस्ट ( पेन इंक )का पुरस्कार भी मिला।:. अंजलि जमशेदपुर में डूडल आर्ट करने वाले एकमात्र कलाकार है.

अनुपम पाल : अनुपम पाल कंटेम्पररी आर्टिस्ट है पिछले नौ साल से कला के क्षेत्र में है. इनकी पेंटिंग की खासयित यह है की ये अपनी पेंटिंग में आंखे नहीं बनाते , इनका मानना है की सपने देखने के लिए आँखों की जरुरत नहीं होती बल्कि सपने को भी देख सकते जिनकी आंखे नहीं होती. सोशल मीडिया के माध्यम से अनुपम की पेंटिंग भारत के विव्वणा राज्यों के अलावा इटली , फ्रांस , पेरिस , मॉस्को , लंदन , कनाडा , सिंगापूर , टेक्सास ( USA ) , Amsterdam ( नेथरलैंड ) मे बिक चुकी है. इनकी ज्यादातर पेंटिंग्स सोशल मीडिया से जाती है.