Image

18 जुलाई से जेवीएम का सदस्यता अभियान, बाबूलाल मरांडी जमशेदपुर से करेंगे शुभारंभ

झारखंड विकास मोर्चा के केंद्रीय महासचिव अभय सिंह ने कहा की आगामी 18 जुलाई को झारखंड विकास मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष एवं झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी जमशेदपुर में जेवीएम  का सदस्यता अभियान का शुभारंभ अपने कर कमलों के द्वारा करेंगे. वे स्वयं नए सदस्य बनाने के लिए जनता के बीच में जाएंगे और अपनी विचारधारा के साथ उन्हें अपने हाथों से सदस्य बनाकर उन्हें जोड़ेंगे.

प्रथम चरण के तहत साकची बाजार,के दुकानदारों , बर्मामाइंस बाजार के दुकानदारों , न्यू कालीमाटी रोड के नागरिकों , गोलमुरी बाजार के दुकानदारों ,टेल्को मार्केट एवं बागुनहातु , तथा बिरसानगर के दलित बस्तियों में जाकर वे पार्टी का सदस्यता को ग्रहण करवाएंगे.

इस बार पार्टी ने यह निर्णय किया की केंद्रीय अध्यक्ष जमशेदपुर में झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास क्षेत्र से ही सदस्यता अभियान का प्रारंभ करेंगे और आगामी विधानसभा के चुनाव को ध्यान में रखते हुए संगठन का शंखनाद करेंगे.इस अभियान में पार्टी के कार्यकर्ता ढोल बाजे नगाड़ा के साथ में केंद्रीय अध्यक्ष का विभिन्न क्षेत्रों में जहां सदस्यता अभियान चलेगा स्वागत करेंगे और इस अभियान में भाग लेंगे.

पार्टी का यह प्रयास है की जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा में दस हजार  नए लोगों को अपनी साथ जोड़ेंगे. साथ ही इस पूरे कोल्हान प्रमंडल में 50,000 से अधिक नए सदस्यों को जोड़ने का प्रयास किया जाएगा.

अभय सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री के नाक के नीचे उनके विधानसभा क्षेत्र में मजदूरों को लगातार निलंबित या सस्पेंड किया जा रहा है. इस सरकार के विधायक हो या सांसद सभी अपने कर्तव्यों का निर्वाह नहीं कर रहे हैं मजदूर भयभीत है मजदूर के अंदर में भय का वातावरण है जिसका संघर्ष और जिस की लड़ाई झारखंड विकास मोर्चा करेगी और आगामी दिन मंगलवार को दिनांक 23 जुलाई 2019 को प्रथम चरण के तहत टाटा मोटर्स गेट के समक्ष चेतावनी जनसभा का आयोजन झारखंड विकास मोर्चा के कार्यकर्ता करेंगे और कंपनी को अल्टीमेटम देंगे कि अगर 15 दिनों के अंदर आप मजदूरों के अंदर इस अन्याय को खत्म नहीं करते तो दूसरे चरण पर मशाल जुलूस ,तीसरे चरण पर धरना प्रदर्शन पांचवें चरण पर गेट जाम और छठवें चरण पर पूरे शहर के चौक चौराहे पर मुख्यमंत्री का पुतला जलाया जाएगा.

उन्होने बताया कि सरकार को मजदूरों के शहर में मजदूर के समस्याओं का निदान करना चाहिए. लेकिन आज मुख्यमंत्री कारपोरेट कंपनी के पैरोकार हो गए हैं जो दुर्भाग्य है जिस मजदूरों ने अपनी मत के आधार पर एक अदने से व्यक्ति को मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचाया. इस अन्याय का खात्मा जेवीएम करेगी.